सामुदायिक विकास

स्त्री सशक्तिकरण

समाजमें स्त्रियोंको सशक्त करने हेतु, मुकुल माधव फाउंडेशनने ग्रामिण महिला विकास केंद्र, फन्सोप और छात्रोंकी माताओंके लिये मुकुल माधव विद्यालय में संगणक वर्ग/कम्प्युटर क्लासीस शुरु किये. कोर्स जुलाइ २०१३ में मुकुल माधव विद्यालयके बील्डींग़में शुरु हुए और वे राहत दअरों पर उपलब्ध हैं। स्कूल के कम्पुटर टीचर द्वारा इन वर्गो को चलाया जाता है।

छात्रों/विद्यार्थियों की माताओंको अंग्रेजी भाषा सिखाने और उनको उससे परिचित करानेका महत्व हम जानते हैं। इससे वे अपने बालकके शैक्षणिक विकासकी जिम्मेदारी आसानीसे निभा पाती हैं। इसको ध्यान में रखकर, हमने उनके लिये प्राथमिक अंग्रेजी प्रशिक्षण भी शुरु किया है।

इसके अलावा, ग्रामिण महिला विकास केंद्र की महिलाओं के लिये, हेंडीक्राफ्ट वर्क्शोप का आयोजन भी  किया गया था इस प्रयाससे गांवकी महिलाओंको अपनी आमदनी बढाने की क्षमता को बढावा देने का मौका मिलता है।

गांववालों की पीने के पानी की समस्या सुलझाने हेतु लिये गये एक छोटे कदम अनुसार, गोलप के आसपासके क्षेत्रोंमें पीनेके पानेको पहोंचाने वाली योजनाओंको हमने चालु रखा और हमें इसमें उन गावोंके ग्राम पंचायतों का सहकार मिला।

फिनोलेक्सने, राष्ट्रीय ग्रामिण पेयजल योजना अंतर्गत, कोलम्बे, भाट्ये और फन्सोप गांवोंकी ग्राम पंचायतोंकी मदद की. इन योजनाओंके शुरु होने से पहले, हम इन गांवोंको कुंओंसे पानी पहूंचाते थे और उसके लिये पंप, पाइपलाइन और पानीके टेंक्स  उनको देते थे। तत्कालीन पानीके सप्लायकी योजनाओं के अंतर्गत, कम्पनीने पानीकी कमी का ध्यान रखा और ग्राम पंचायतोंको वित्तिय सहाय भी दी जिससे वे मरम्मत एवं अपने  बीजलीके बीलका भुगतान भी कर सकें।

 

पानी का संरक्षण 

विश्व पानी दिवस/वर्ल्ड वोटर डे के अवसर पर, हमने लोगों तक अपने डीजीटल माध्यमसे पहुंचकर वीडीओ द्वारा उनको पानीके संरक्षणका महत्व समझाया. हमने श्रोतागण को शिक्षित किया और अलग अलग सरल तरीके बताये जिसके द्वारा वे पानी बचा सकते हैं और इनको अपनी रोजाना जिंदगीमें इस्तेमाल कर सकते हैं।महाराष्ट्रके क्षेत्रोंमें भारी सूखा पडा था और हमने अति भारी पानी की कमी देखी और तब हमने जरुरतमंद किसानों को पानी का दान देनेका निर्णय लिया. महाराष्ट्रके क्षेत्रोंमें भारी सूखा पडा और हमने, अति भारी पानीकी कमी देखी. इसलिये हमने शहरी श्रोतागणों को ग्रामिणभारत के साथ जोडने का रास्ता पा लिया. इसके अंतर्गत हमने लोगोंको पानी बचानेकी कसमें दिलायीं और बचा हुआ पानी महाराष्ट्र के अकालग्रस्त लातुर को दान में दिया गया.

५ जून २०१५ को, विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर, हमने सोशियल मेडीया के विविध मंच पर एक अभिनव अभियान, पानीको #पानीकीतरहमतबहाओ नाम से शुरु किया. हमने अभियान को वीडीओ द्वारा शुरु किया और रोशनी डाली पानीके व्यय की समस्या पर और पानीके संरक्षणके महत्वकी जागरूकता पर पानी को #पानीकीतरहमतबहाओ नामक तकिया कलाम का इस्तेमाल , पानीका व्यय नहीं लेकिन बचाव, इसका मज़बूत कारण बन सकता है।    

आगे, सी एस आर गतिविधिओं के अंतर्गत, फिनोलेक्सने सारे ग्रामिणजनोंको पीनेका पानी उपलब्ध हो सके इस हेतु एक प्रकल्प उठाया है। और इसके अनुसार, भट्ये गांव के एक कुंएके पास एक वोटर फिल्ट्रेशन युनीट/एकम बिठाया गया है जिससे गांव को काफी फायदा हुआ है।

गॅलरी

पूछताछ के लिए पूछें

किसी भी व्यापार पूछताछ कॉल के लिए

18002003466

पूछताछ फार्म

नीचे दिए गए विवरण भरें और हमारे अधिकारियों में से एक जल्द ही आपके पास वापस आ जाएगा।